इश्क़ की रट

Please log in or register to like posts.
News

इश्क़ इश्क़ की रट लगाए घूमता है आज ये जमाना I हुआ हो किसी को किसी और से सच्चा इश्क़ तो एक बार मुझे बताना I इश्क़ तो एक कल्पना है एक एहसास है , इश्क़ कभी किसी दूसरे  या वस्तु से नहीं होता I इश्क़ होता है तो सिर्फ खुद से अपने आप से अपने शरीर से अपनी आत्मा से किसी अन्य  के लिए हुआ एहसास इश्क़ नहीं प्यार है l

 

अब आप कहेंगे प्यार और इश्क़ तो एक ही है नहीं प्यार अलग है इश्क़ अलग है l प्यार तो हमे जानवरों से भी होता है भाई बहनों से माँ बाप अन्य लोगो से लेकिन इश्क़ इश्क़ तो सिर्फ जिंदगी  में सिर्फ एक बार होता है और मृत्यु के साथ ही खत्म होता क्योंकि खुद से ही इश्क़ होता है

 

इश्क़ में ना खुदगर्जी होती है झूठ का साया होता है किसी चीज़ का भय होता है हम स्वार्थी होते है अगर आप यह सब किसी और के लिए कर सकते है तो आप उससे इश्क़ करते है अन्य-था यह सब कुछ इंसान सिर्फ अपने लिए करता है

 

इश्क़ तो एक हसीन  ख़्वाब की तरह है

जो हम बंद आँखों से देख तो लेते है 

लेकिन कभी किसी और से न हासिल कर पाते है न दे पाते है

आँख खुलते हो सारा ख्वाब धुआँ बनके उड़ जाता है 

Reactions

1

Nobody liked ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *